posted on : फरवरी 2, 2023 5:35 pm
शेयर करें !

खास खबर : 6 से 9 बजे का टाइम है जानलेवा, रिपोर्ट में खुलासा

नई दिल्ली : सड़क दुघर्टनाओं में हर दिन किसी ना किसी की जान जाती ही रहती है। रोजाना एक्सीडेंट की खबरें भी सामने आती रहती हैं। अगर आप भी उन लोगों में से है जो अपना मूड ठीक करने, मस्ती करने या किसी भी बहाने से ड्राइव पर निकल जाते हैं तो यह खबर आपको जरूर पढ़नी चाहिए। उनके लिए ये टाइम जानलेवा है।

सड़क पर गाड़ी चलाते समय बहुत सावधानी बरतने की जरूरत होती है और जरा-सी लापरवाही खतरनाक साबित हो सकती है। हालांकि, अब सरकार की एक रिपोर्ट सामने आई है, जिसमें बताया गया है कौन-से समय में जोखिम सबसे ज्यादा रहता है। इस समय में अधिक सावधानी बरतकर आप होने वाली दुर्घटना की आशंका को कम कर सकते हैं।

उत्तराखंड : महंगी होगी बिजली, प्रस्ताव तैयार, इतना बढ़ेगा रेट

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा जारी वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक, दोपहर 3 से 9 बजे की अवधि भारतीय सड़कों पर काफी जोखिम भरी और घातक साबित हुई है और 2021 में रजिस्टर्ड हुए कुल सड़क दुर्घटनाओं में से लगभग 40% इसी दौरान दर्ज किये गए हैं। इसमें से भी शाम 6 बजे से 9 बजे के बीच के अंतराल में सड़क दुर्घटनाओं की सबसे ज्यादा संख्या दर्ज की गई है।

2021 के बीच, भारत में शाम 6 बजे से रात 9 बजे के दौरान 85,000 से अधिक सड़क दुर्घटनाएं हुईं। यह देश में कुल दुर्घटनाओं का लगभग 21% हिस्सा है। 3 बजे से 6 बजे के बीच के समय में होनी वाली दुर्घटनाएं लगभग लगभग 18% है। वहीं, 2021 के दौरान, 4,996 दुर्घटनाओं के समय का पता नहीं चल सका था।

दोपहर 12 बजे से सुबह 6 बजे के बीच की समयावधि सबसे सुरक्षित है, इस दौरान 10 फीसदी से कम दुर्घटनाओं को दर्ज किया गया है। 2017 के बाद से दोपहर 3 बजे से रात 9 बजे के बीच की अवधि में होने वाली कुल दुर्घटनाओं का 35% से अधिक इसी समय में दर्ज किये गए हैं।

सरकार की रिपोर्ट से पता चलता है कि शाम 6 बजे से रात 9 बजे के बीच तमिलनाडु में सबसे ज्यादा दुर्घटनाएं होती है। यह आंकड़ा 14,416 दुर्घटनाओं का है। इसके बाद मध्य प्रदेश है जहां 10,332 दुर्घटनाएं दर्ज की गईं। केरल, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में कुल मिलाकर दोपहर 3 बजे से रात 9 बजे के दौरान 82,879 दुर्घटना के मामले दर्ज किए गए हैं।

             

                                                                Source:Dainik Jagran

error: Content is protected !!