उत्तराखंड में बड़ा फैसला : 10 साल से ज्यादा पुरानी बसों पर बैन, ये है वजह

देहरादून: उत्तराखंड में 10 साल से अधिक पुरोनी हो चुकी बसों पर बैन लगा दिया गया है। ये बसें चारधाम यात्रा में नहीं लगाई जाएंगी। चार धाम यात्रा में संचालित होने वाली बसों पर 177 व्हीलबेस का नियम भी लागू नहीं होगा। यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए सरकार ने 10 साल से पुरानी बसों के संचालन पर प्रतिबंध लगा दिया है। परिवहन विभाग ने कारोबारियों की मांग के अनुसार चारधाम यात्रा में केवल 166 व्हीलबेस की बसों के संचालन की अनुमति दी है। यह भी आदेश किए गए हैं कि जो बसें बाहर से मंगाई जाएंगी उनको कम से कम तीन चक्कर जरूर दिए जाएंगे।

उत्तराखंड: जिस दिन खुलेंग बाबा केदारनाथ के कपाट, उसी दिन से धाम में बंद का ऐलान…आखिर क्यों?

परिवहन विभाग ने कारोबारियों की मांग के अनुसार चार धाम यात्रा में केवल 166 व्हीलबेस की बसों के संचालन की ही अनुमति दी है। निर्धारित व्हीलबेस से 60 प्रतिशत रियर ओवरहैंग यानी बस का पिछला हिस्सा 60 प्रतिशत अधिक होने पर भी उसका संचालन किया जा सकेगा। पर्वतीय मार्गों की दशा सुधरने और चौड़ीकरण के बाद गत 14 मार्च को राज्य परिवहन प्राधिकरण ने पर्वतीय मार्गों पर बसों का व्हीलबेस बढ़ाने की मंजूरी दे दी थी। इस आदेश के क्रम में पर्वतीय मार्गों पर बस का रियर ओवरहैंग व्हीलबेस के 50 प्रतिशत तक होने की छूट दी गई थी।

उत्तराखंड: इस बार जमकर बरसेंगे बादल, मौसम विभाग ने अभी से कर दिया सकर्त, बताई ये वजह

चार धाम यात्रा के संयुक्त रोटेशन व परिवहन कारोबारी इसका विरोध कर रहे थे। उनका आरोप था कि सरकार ने यह कदम दूसरे राज्यों की बसों को लाभ पहुंचाने के लिए किया है। गुरुवार को यात्रा के नोडल अधिकारी/आरटीओ सुनील शर्मा ने 177 व्हीलबेस की बस व 10 वर्ष से अधिक पुरानी बसों के चार धाम यात्रा में संचालन पर रोक लगाने के आदेश कर दिए।

यह भी आदेश किए गए हैं कि चार धाम यात्रा में जो बसें बाहर से मंगाई जाएंगी, उन्हें न्यूनतम तीन ट्रिप अवश्य दिए जाएंगे। यात्रा में आवश्यकता पड़ने पर हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश के सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, मेरठ, मुरादाबाद, बिजनौर, बरेली से भी बसें मंगाई जाएंगी। संबंधित क्षेत्र से सटे उत्तराखंड के एआरटीओ को बसों की अग्रिम सूची उपलब्ध कराने को कहा है।

YouTube video

किसी का बस का व्हीलबेस उसके दोनों टायर (अगले-पिछले) के मध्य की दूरी होती है। यानी अगर किसी बस के दोनों टायरों के सेंटर प्वाइंट (एक्सल) की दूरी 15 फीट है तो यही बस का व्हीलबेस होगा। इसी क्रम में फ्रंट ओवरहैंग अगले टायर के एक्सल से आगे निकले हुए बस की बाडी के हिस्से को कहते हैं, जबकि रियर ओवरहैंग पिछले टायर के एक्सल से पीछे की तरफ निकले हुए हिस्से को कहते हैं

शेयर करें !
posted on : April 26, 2024 12:26 pm