उत्तरकाशी : धूमधाम से मनाई गई मंगसीर बग्वाल, इसलिए मनाया जाता है त्योहार

उत्तरकाशी :  दिपावली के एक महीने बाद ऐतिहासिक मंगसीर दिवाली बनाई जाती है। उत्तरकाशी में सोमवार को धूमधाम से मंगसीर दिवाली मनाई गई।

दीवाली के एक महीने बाद उत्तरकाशी में पारम्परिक और ऐतिहासिक दीपावली मनाई जाती है। जिसे मंगसीर बग्वाल के नाम से जाना जाता है। सोमवार को उत्तराकाशी में मंगसीर बग्वाल के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

मंगसीर बग्वाल गढ़वाल के वीर सेनापति माधो सिंह भंडारी के युद्ध जीतकर घर आने की खुशी में मनाी जाती है। साल 1627-28 के बीच गढ़वाल नरेश महिपत शाह का शासन था। उनके शासनकाल के दौरान गढ़वाल में आकर तिब्बती लुटेरे लूटपाट करते थे।

इस पर राजा ने अपने सेनापति को उनसे युद्ध के लिए भेजा। जिसमें माधों सिंह भंडारी की सेना ने तिब्बतियों के छक्के उड़ा दिए। इस एतिहासिक जीत और माधो सिंह भंडारी के घर लौटने की खुशी में राजा के द्वारा मंगसीर बग्वाल मनाई गई। तब से और आज तक ये बग्वाल मनाई जाती है।

बग्वाल से एक दिन पहले गढ़ भोज का आयोजन किया जाता है। इसके साथ ही गढ़ संग्रहलय, पराम्परिक वेश भूशा, गढवाल के पारम्परिक खेल, परम्परिक गीत पर लोग झूमते हैं। इसके साथ ही कविताओं का पाठ और भैलू नृत्य भी किया जाता है।

शेयर करें !
posted on : December 12, 2023 3:41 pm
<
error: Content is protected !!