जानें भारत रत्न बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर के बारे में रोचक तथ्य………….

देहरादून : भारत के संविधान लिखने वाले डॉ भीमराव आंबेडकर की आज पुण्यतिथि है. वे एक बहुत बड़े अर्थशास्त्री, न्यायविद, राजनीतिज्ञ, समाज सुधारक और राजनीतिक नेता थे. उन्होंने दलित जाति के लिए काफी काम किया. वे समाज से भेदभाव को खत्म करना चाहते थे. उन्होंने दलित बौद्ध आंदोलन के लिए लोगों को प्रेरित किया और समाज में अछूतों को लेकर हो रहे भेदभाव के विरुद्ध अभियान चलाया था. उन्होंने हमेशा श्रमिकों, किसानों और महिलाओं के अधिकार के बारे में बात की. उनकी मृत्यु 06 दिसम्बर 1956 को हुई थी. इसलिए इस दिन अंबेडकर जी की पुण्यतिथि मनाई जाती है और साथ ही इस दिन को महापरिनिर्वाण दिवस भी कहा जाता है.

डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर अपने माता-पिता की 14वीं और आखिरी संतान थे।
भीमराव जी यूँ तो सकपाल थे महार जाति के लेकिन उनके शिक्षक महादेव अम्बेडकर ने स्कूल रिकॉर्ड में उन्हें अपने उपनाम से अम्बेडकर उपनाम दिया।
उनके दो विवाह हुए थे। पहला विवाह रमाबाई के साथ हुआ था जो 9 वर्ष की थीं और अम्बेडकर 15 वर्ष के थे। बाद में बीमारी के कारण उन्होंने सविता अम्बेडकर से विवाह किया था।
डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर विदेश से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट (पीएचडी) की डिग्री पाने वाले पहले भारतीय थे।
डॉ. अम्बेडकर एकमात्र भारतीय हैं जिनकी प्रतिमा लंदन संग्रहालय में कार्ल मार्क्स के साथ लगी हुई है।
भारतीय तिरंगे में “अशोक चक्र” को जगह देने का श्रेय भी डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर को जाता है।
नोबेल पुरस्कार विजेता प्रोफेसर अमर्त्य सेन अर्थशास्त्र में डॉ. बीआर अंबेडकर को पितृतुल्य मानते थे।
बाबा साहब की निजी लाइब्रेरी “राजगीर” में 50,000 से अधिक पुस्तकें थीं और यह दुनिया की सबसे बड़ी निजी लाइब्रेरी थी।
डॉ. बाबासाहेब द्वारा लिखित पुस्तक “वेटिंग फॉर ए वीज़ा” कोलंबिया विश्वविद्यालय में एक पाठ्यपुस्तक है। 
कोलंबिया विश्वविद्यालय ने 2004 में दुनिया के शीर्ष 100 विद्वानों की एक सूची बनाई थी जिसमें पहला नाम डॉ. भीमराव अंबेडकर का है।
डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर को हिंदी, पाली, संस्कृत, अंग्रेजी, फ्रेंच, जर्मन, मराठी, फारसी और गुजराती जैसी 9 भाषाओं का ज्ञान था।
लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में बाबा साहब ने 8 साल की पढ़ाई सिर्फ 2 साल 3 महीने में पूरी कर ली। इसके लिए उन्होंने प्रतिदिन 21 घंटे पढ़ाई की।
डॉ. बाबासाहब अम्बेडकर का अपने 8,50,000 समर्थकों के साथ बौद्ध धर्म में दीक्षा लेना ऐतिहासिक दृष्टि से विश्व का सबसे बड़ा धर्मान्तरण था।
बाबासाहेब को बौद्ध धर्म की दीक्षा देने वाले महान बौद्ध भिक्षु “महंत वीर चंद्रमणि” ने उन्हें “इस युग का आधुनिक बुद्ध” कहा था।
बाबासाहेब लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से “डॉक्टर ऑल साइंस” नामक बहुमूल्य डॉक्टरेट की डिग्री प्राप्त करने वाले दुनिया के पहले और एकमात्र व्यक्ति हैं।
गवर्नर लॉर्ड लिनलिथगो और महात्मा गांधी का मानना ​​था कि बाबा साहब 500 स्नातकों और हजारों विद्वानों से भी अधिक बुद्धिमान थे।
बाबा साहब दुनिया के पहले और एकमात्र सत्याग्रही थे, जिन्होंने पीने के पानी के लिए सत्याग्रह किया था।
1954 में नेपाल के काठमांडू में आयोजित “विश्व बौद्ध परिषद” में बौद्ध भिक्षुओं ने डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर को बौद्ध धर्म की सर्वोच्च उपाधि “बोधिसत्व” दी थी। उनकी प्रसिद्ध पुस्तक “द बुद्धा एंड हिज धम्मा” भारतीय बौद्धों का “धर्मग्रंथ” है।
डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर ने तीन महापुरुषों, भगवान बुद्ध, संत कबीर और महात्मा फुले को अपना “प्रशिक्षक” माना था।
बाबा साहब पिछड़े वर्ग के पहले वकील थे।
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा “द मेकर्स ऑफ द यूनिवर्स” नामक वैश्विक सर्वेक्षण के आधार पर पिछले 10 हजार वर्षों के शीर्ष 100 मानवतावादी लोगों की एक सूची बनाई गई थी, जिसमें चौथा नाम डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर का था।
वर्तमान समय में जिस विमुद्रीकरण की चर्चा चारों ओर हो रही है, उस पर बाबा साहब अम्बेडकर ने अपनी पुस्तक “द प्रॉब्लम ऑफ रुपी-इट्स ओरिजिन एंड इट्स सॉल्यूशन” में कई सुझाव दिये हैं।  
दुनिया में हर जगह बुद्ध की बंद आँखों वाली मूर्तियाँ और पेंटिंग्स दिखाई देती हैं, लेकिन बाबासाहेब, जो एक अच्छे चित्रकार भी थे, ने बुद्ध की पहली पेंटिंग बनाई जिसमें बुद्ध की आँखें खुली हुई थीं।
बाबा साहब की पहली प्रतिमा वर्ष 1950 में बनाई गई थी जब वे जीवित थे और यह प्रतिमा कोल्हापुर शहर में स्थापित है।
बाबासाहेब अम्बेडकर की पुस्तक “रुपये की समस्या: इसकी उत्पत्ति और समाधान” के सिद्धांतों का उपयोग करते हुए आरबीआई की स्थापना 1 अप्रैल, 1935 को की गई थी।
यूनिवर्सल एडल्ट फ्रैंचाइज़” के लिए साउथबरो कमीशन के सामने वकालत करने वाले पहले भारतीय डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर थे।
27 नवंबर 1942 को नई दिल्ली में आयोजित भारतीय श्रम सम्मेलन के 7वें सत्र में डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर ने कार्य अवधि को 12 से घटाकर 8 घंटे कर दिया था। 
1955 में, उन्होंने बिहार और मध्य प्रदेश के विभाजन का प्रस्ताव रखा, एक सुझाव जिसे 45 साल बाद लागू किया गया।
डॉ. अम्बेडकर स्वतंत्र भारत के पहले कानून मंत्री थे। जब महिलाओं के अधिकारों की वकालत करने वाले उनके विधेयक का संसद में विरोध हुआ तो उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया।
1952 और 1954 का चुनाव लड़ने के बावजूद वे कभी विजयी नहीं हुए।
डॉ. बीआर अंबेडकर भारत में महिला श्रमिकों के लिए कई कानून बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका रही:

 खान मातृत्व लाभ अधिनियम
महिला श्रमिक कल्याण निधि
महिला एवं बाल, श्रम संरक्षण अधिनियम
महिला श्रमिकों के लिए मातृत्व लाभ
कोयला खदानों में भूमिगत काम पर महिलाओं के रोजगार पर प्रतिबंध की बहाली

डॉ. अम्बेडकर की पीएच.डी. 1923 में लिखी गई थीसिस, “ब्रिटिश भारत में प्रांतीय वित्त का विकास” सभी 13 वित्त आयोग की रिपोर्टों के लिए एक अद्वितीय संदर्भ स्रोत रही है।
कर्मचारियों को  निम्न लाभ दिलवाने में बाबा साहब की अग्रणी भूमिका रही है:

 महंगाई भत्ता (डीए)
अवकाश लाभ, 
वेतनमान में संशोधन
स्वास्थ्य बीमा योजना
राष्ट्रीय रोजगार एजेंसी 
कर्मचारी राज्य बीमा (ईएसआई)
भविष्य निधि अधिनियम
कारखाना संशोधन अधिनियम
श्रम विवाद अधिनियम
न्यूनतम मजदूरी
  कोयला खान सुरक्षा (स्टोइंग) संशोधन विधेयक
अभ्रक खान श्रम कल्याण कोष आदि आदि

डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर ने जल संसाधनों के विकास में भी योगदान दिया। उन्होंने दामोदर घाटी परियोजना, हीराकुंड परियोजना और सोन नदी घाटी परियोजना की डिजाइन और योजना बनाई।
भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) की स्थापना अंबेडकर द्वारा हिल्टन यंग कमीशन को प्रस्तुत किए गए विचारों के आधार पर की गई थी।
14 अक्टूबर, 1956 को उन्होंने दीक्षाभूमि (नागपुर) में बौद्ध धर्म अपना लिया, इस घटना को धम्म चक्र प्रवर्तन दिन के नाम से जाना जाता है।
डॉ बाबासाहब अम्बेडकर अधिकांशतः मधुमेह की बीमारी से ग्रस्त रहे।
चैत्य भूमि, जहां 6 दिसंबर, 1956 को उनकी मृत्यु के बाद डॉ. बीआर अंबेडकर का अंतिम संस्कार किया गया था, उन्हें समर्पित एक स्मारक स्थल है। इस दिन को महापरिनिर्वाण दिवस के रूप में मनाया जाता है।
भारत सरकार ने उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया है।
भारत के महान समाज सुधारक, प्रखर विधिवेत्ता, और संविधान के प्रमुख शिल्पी डॉ भीमराव अम्बेडकर को उनकी पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि!!

लेखक : नरेन्द्र सिंह चौधरी, भारतीय वन सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी हैं. इनके द्वारा वन एवं वन्यजीव के क्षेत्र में सराहनीय कार्य किये हैं.

शेयर करें !
posted on : December 6, 2023 1:21 pm
<
error: Content is protected !!