posted on : सितंबर 14, 2022 2:34 pm
शेयर करें !

उत्तराखंड: दिल दहलाने वाली दो घटनाएं, अस्पताल की OPD लाइन में बच्चे ने तोड़ दिया दम!

ऋषिकेश: ऋषिकेश में एक ऐसी घटना सामने आई है, जिसके बारे में जानकार आप भी हैरान रह जाएंगे। राजकीय अस्पताल में 8 माह की बच्ची की बुधवार की सुबह आपातकालीन कक्ष में मौत हो गई। बच्ची के पिता ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उन्होंने से पूरे मामले की शिकायत की है। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने इस मामले में जांच की बात कही है। वहीं, पिथौरागढ़ का एक हृदय विदारक वीडियाे वायरल हो रहा है। यह वीडियो पूरे सूबे की स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल उठा रहा है। वीडियो में दिख रहा है कि एक बच्चे को लेकर उसका पिता जिला अस्पताल में इलाज कराने पहुंचा है। लेकिन उपचार न मिल पाने के कारण गोद में ही बच्चे की मौत हो गई है। घटना का वीडियाेे इंटरनेट मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

ऋषिकेश चंद्रेश्वर नगर, गली नंबर 19 निवासी राजकुमार ने बताया कि उसकी आठ माह की पुत्री निधि को मंगलवार को उल्टी की शिकायत हुई। उनकी पत्नी सीमा बच्ची को लेकर रात में राजकीय चिकित्सालय की इमरजेंसी में पहुंची। वहां डॉक्टर ने पीने के लिए कुछ दवाई दी और सुबह बाल बच्चों के डॉक्टर को दिखाने के लिए कह दिया।

बुधवार की सुबह सही वक्त पर अस्पताल पहुंच गए थे। करीब आधा घंटा लाइन में खड़ा होना पड़ा। बाद में बाल रोग विशेषज्ञ ने बच्ची के परीक्षण के बाद उसे आपातकालीन सेवा में ले जाकर भर्ती कराने को कहा। सुबह ड्यूटी पर उपस्थित डॉ. सागर भट्ट ने बताया कि बाल रोग विशेषज्ञ स्वयं बच्ची को आपातकालीन सेवा में लेकर आए। उसे उपचार देना शुरू कर दिया गया था, लेकिन उसकी मौत हो गई।

बच्ची की मां सीमा और पिता राजकुमार ने इमरजेंसी सेवा में बीती रात उपचार के दौरान लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि रात में ही यदि बाल रोग विशेषज्ञ को बुला लिया गया होता तो आज उनकी बच्ची जीवित होती। बच्ची के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. पीके चंदोला ने बताया कि पूरे मामले की जांच कराई जाएगी। जांच में यदि कोई दोषी पाया जाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति सीएमओ को की जाएगी।

पिथौराग़ढ़ के वायरल वीडियो बीते शनिवार का पिथौरागढ़ के बीडी पांडे जिला अस्पताल का बताया जा रहा है। वीडियो बनाने वाला अस्पताल की स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल खड़े करते हुए सुनाई दे रहा है। जिसमें बताया जा रहा है कि पिता गंभीर रूप से बीमार बच्चे को लेकर पिता पहले इमरजेंसी वार्ड में गया। लेकिन इमरजेंसी में देखने की बजाए उसे ओपीडी में भेज दिया गया है। इस दौरान बच्चे की मौत हो गई। वीडियो में अस्पताल परिसर में पिता कपड़े में लिपटे बेटे का शव गोद में लेकर बैठ कर रो रहा है। वीडियो में ही बाद में बच्चे को लेकर जाते हुए परिजन भी नजर आ रहे हैं।

अस्पताल प्रशासन से बात की गई तो उनका कहना है कि बच्चे के उपचार में किसी तरह की लापरवाही नहीं बरती गई। इमरजेंसी में चेकअप के बाद जांच की गई, बच्चा रक्त संबंधी बीमारी से ग्रसित था। बीमारी से ही बच्चे की मौत हुई है। अस्पताल की व्यवस्था पर उठाए जा रहे सवाल बेबुनियाद हैं।

error: Content is protected !!