posted on : अक्टूबर 6, 2022 12:01 pm
शेयर करें !

उत्तराखंड: ब्लैकलिस्टेड कंपनी से कराई परीक्षा, युवाओं ने उठाया था सवाल, आयोग ने दी थी धमकी!

देहरादून: वन दरोगा भर्ती परीक्षा पर बेरोजगार संगठन ने सवाल खड़े किए थे। तब युवाओं ने परीक्षा कराने वाली कंपनी को ब्लैकलिस्टेड बताया था। लेकिन, आयोग ने उनकी बात मानने के बजाय, उल्टा युवाओं के खिलाफ ही कार्रवाई की धमकी दी थी।

यह कंपनी पहले ही ऑनलाइन परीक्षा व्यवसायिक परीक्षा मंडल, मध्य प्रदेश (व्यापम) ने ब्लैकलिस्टेड किया था। NSEIT लिमिटेड कंपनी को इस परीक्षा से एक महीने पहले सितंबर 2021 में मध्य प्रदेश सरकार ने ब्लैक लिस्ट में डाल दिया था। कंपनी की तीन और परीक्षाओं की वहां छह महीने पहले से जांच चल रही थी। बावजूद इसके आयोग ने इसके बारे में कोई जानकारी नहीं जुटाई।

 उत्तराखंड : UOU की परीक्षाएं रद्द, ये है बड़ा कारण

अब तक हुए खुलासे में आयोग की घोर लापरवाही सामने आ रही है। आयोग के अधिकारियों ने परीक्षाएं कराने का जिम्मा कंपनियों को दिया और खुद गहरी नींद सो गए। स्नातक स्तरीय परीक्षा में RMS टेक्नो सॉल्यूशन और अब वन दरोगा ऑनलाइन परीक्षा में NSEIT , दोनों का ही रिकॉर्ड अच्छा नहीं रहा है।

NSEIT कंपनी के माध्यम से मध्य प्रदेश में प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड ने कृषि विस्तार अधिकारी, नर्सिंग और ग्रुप दो की सहायक संप्रेक्षक समेत 10 परीक्षाएं ऑनलाइन कराई थीं। ये परीक्षाएं जनवरी से फरवरी 2021 के बीच कराई गई थीं। इन पर सवाल उठे तो मध्य प्रदेश सरकार ने जांच कराई।

BJP के लिए बुरी खबर, पांच बार के विधायक की हार्ट अटैक से मौत

साइबर पुलिस ने जांच के दौरान कृषि विस्तार अधिकारी, नर्सिंग और ग्रुप दो की सहायक संप्रेक्षक की परीक्षा में धांधली पाई। इसके बाद इन परीक्षाओं को रद्द कर कंपनी को ब्लैकलिस्टेड कर दिया गया। एसटीएफ के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, यह बात जांच में सामने आ चुकी है।

MP में जब जांच हुई तो पता चला कि परीक्षा केंद्रों पर पेपर को गलत तरीके से डाउनलोड कराया गया था। विस्तृत जांच में पाया गया था कि परीक्षा के लिए 10 फरवरी 2021 को दोपहर 1.30 लॉग हुआ। पेपर डाउनलोड पीईबी यानी व्यापम के कंप्यूटर से नहीं बल्कि किसी और मशीन से हुआ फिर जमकर नकल हुई। इन तीनों परीक्षाओं में मध्य प्रदेश के तीन लाख से ज्यादा अभ्यर्थी बैठे थे। इसी तरह की गड़बड़ी वन दरोगा भर्ती परीक्षा में भी हुई है।

error: Content is protected !!