उत्तराखंड : बच गई डुंडा की बेटी, हरियाणा में कब तक होता रहेगा बेटियों का सौदा?

शेयर करें !
posted on : दिसंबर 10, 2023 10:39 am

उत्तरकाशी : उत्तरकाशी जिले के विभिन्न क्षेत्रों से बेटियों को हरियाणा में बेचे जाने के मामले पहले भी सामने आते रहे हैं। ताजा मामला डुंडा का है। जहां परिजनों ने अपनी नाबालिग बेटी को फर्जी जन्म प्रमाण पत्र कनाकर उसकी शादी की तैयारी कर ली थी। बारात हरियाणा से आ रही थी। लेकिन, जैसे ही उनको लड़की की शादी रोके जाने की जानकारी लगी वो आधा रास्ते से ही लौट गए।

डुंडा तहसील के कुमारकोट गांव में प्रशासन ने नाबालिग लड़की की शादी रुकवा दी। नाबालिग लड़की और उसकी मां को वन स्टॉप सेंटर उत्तरकाशी लाया गया है। वहीं, हरियाणा से आ रही बरात रास्ते से ही लौट गई। बताया जा रहा कि परिजनों ने नाबालिग का फर्जी जन्म प्रमाणपत्र बनवा कुछ दिन पूर्व कोर्ट मैरिज भी करवा दी थी।

कर्नल गीता राणा ने रचा इतिहास, यह उपलब्धि हासिल करने वाली देश की पहली अधिकारी

जिस लड़की की शादी कराई जा रही थी, हाईस्कूल के प्रमाणपत्र से उसकी उम्र 16 वर्ष कुछ माह होने की पुष्टि हुई। जिस पर टीम नाबालिग लड़की और उसकी मां को पूछताछ के लिए जिला मुख्यालय स्थित वन सेंटर ले आई। पूछताछ में पता चला कि नाबालिग की शादी की बात हरियाणा में उनके किसी परिचित ने ही करवाई थी।

2013 में भी मामला सामें आया था राम सिंह भंडारी नाम के तस्कर ने न केवल भांजी का सौदा किया था, बल्कि कुछ साल पहले उसने चंद रुपयों के लालच में अपनी बेटी का भी सौदा कर डाला था। मामा और मामी के ग्राहक हरियाणा, पंजाब और पश्चिम उत्तरप्रदेश के रसूखदार परिवार हैं और जिस्म की मंडी चलाने वाले भी।

उत्तराखंड : कैनवास की क्वीन हैं कुसुम पांडे, सोचने पर मजबूर कर देती है इनकी पेंटिंग

2017 में बड़कोट थाना क्षेत्र से एक ही गाँव से 15 और 16 वर्ष की उम्र की दो लड़कियों के गायब होने का मामला सामने आया था। यहां भी हरियाणा कनेक्शन सामने आया था, गांव में हरियाणा से कुछ लोग आये थे जो लड़कियों को बरगलाकर अपने साथ ले गये थे। बाद में लड़कियों को हरियाणा से बरामद किया गया था।

2022 में नौगांव क्षेत्र के एक गांव की महिला को उसका यूपी निवासी मौसा सोव देव अपहरण कर ले गया था। उसने उसकी हत्या कर शव को चकराता के जंगलों में फेंक दिया था। बाद में महिला का कंकाल बरामद किया गया था।

इससे पहले 2018 में नौगांव में एक छह साल की बच्ची का होली के दिन अपहरण हो गया था। उस दिन खूब बवाल मचा था। मामले में दो युवकों को गिरफ्तार किया गया था। उनमें एक युवक सहारनपुर का रहने वाला था।

उत्तराखंड : स्कूल टीचर के पास पहुंची बिटिया, बोली-घर नहीं जाना, पापा गंदा काम करते हैं… 

इसके अलावा ऊधमसिंह नगर जिले में भी लड़कियों के तस्करी के मामले सामने आ चुके हैं। 2021 में चमोली जिले का एक मामला सामने आया था। मामले का खुलासा शिक्षक ने सोशल मीडिया के जरिए किया था। एक 14 साल की बैटी का सौदा यूपी के शराबी मजदूरी से कर दिया गया था।

पुलिस के पास इस तरह के कई मामलों दर्ज हैं। और लगातार इस तरह के मामले सामने भी आ रहे हैं। बावजूद, इस तरह की तस्करी पर अब तक प्रभावी रोक नहीं लगी पाई है। सवाल यह है कि आखिर कब तक बेटियों का सौदा चंद रुपयों के लिए होता रहेगा।

error: Content is protected !!