posted on : फरवरी 22, 2022 11:34 am
शेयर करें !

कुंआरों का अनूठा जुलूस : घोड़ी पर सवार होकर पहुंचे कलेक्ट्रेट, दुल्हनों की मांग

आंदोलन तो आपने कई देखें होंगे, लेकिन ऐसा कभी ना तो देखा होगा और ना सुना होगा। ऐसा पहली बार हो रहा है कि युवाओं को दुल्हनों के लिए प्रदर्शन करना पड़ रहा है। महाराष्ट्र के सोलापुर से कुंआरों के जुलूस की चौंकाने वाली घटना सामने आई है। जिनती रोचक और चौंकानी वाली यह घटना लग रही, लेकिन इसका मकसद बहुत ही नेक हैं। शहर के कुंआरे युवकों ने शादी की पोशाक पहनकर और घोड़ी पर सवार होकर जुलूस निकाला। उन्होंने कलेक्टर कार्यालय जाकर ज्ञापन दिया और उनके लिए दुल्हनों के इंतजाम की मांग की।

दरअसल, देश के कई हिस्सों में स्त्री पुरुष अनुपात गड़बड़ा गया है। इस कारण युवक-युवतियों की शादियां नहीं हो रही हैं। बुधवार को सोलापुर के एक संगठन ने श्दुल्हन मोर्चाश् निकाला। इसमें कई कुंआरे दूल्हे की वेशभूषा में घोड़े पर सवार होकर बैंड बाजों के साथ सोलापुर कलेक्टर कार्यालय पहुंचे। उन्होंने वहां अधिकारियों को ज्ञापन देकर उनके लिए दुल्हनों के इंतजाम की मांग की।

कुंआरे के ज्ञापन में महाराष्ट्र में स्त्री-पुरुष अनुपात में सुधार के लिए प्री-कंसेप्शन एंड प्री-नेटल डायग्नोस्टिक टेक्निक्स एक्ट को सख्ती से लागू करने की भी मांग की गई है। उनका कहना है कि गर्भावस्था में लिंग परीक्षण के बाद कन्या भूण हत्याओं के कारण यह अनुपात गड़बड़ा गया है।

इस जुलूस का आयोजन ज्योति क्रांति परिषद ने किया था। इसके संस्थापक रमेश बारास्कर ने कहा कि लोग भले ही कुंआरों के मार्च की हंसी उड़ा सकते हैं, लेकिन कड़वी सचाई यह है कि राज्य में स्त्री पुरुष अनुपात घटने के कारण कई विवाहयोग्य लड़कों को लड़कियां नहीं मिल रही है।

बोरास्कर ने दावा किया कि महाराष्ट्र में स्त्री पुरुष अनुपात घट कर 1000 लड़कों पर 889 लड़कियां रह गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि इस असमानता के लिए सरकार जिम्मेदार है। कन्या भ्रूण हत्याओं के कारण यह स्थिति बनी है।

error: Content is protected !!