posted on : फरवरी 15, 2023 11:04 am
शेयर करें !

उत्तराखंड : जोशीमठ में बढ़ा खतरा, 22 और घरों में दरारें, 2 होटल हुए तिरछे

जोशीमठ: जोशीमठ में संकट कम होने का नाम नहीं ले रहा है। खतरा लगातार और बढ़ रहा है। भू-धंसाव की चपेट में अब और मकान और होटल भी आ रहे हैं। होटल मलारी इन और माउंट व्यू की तरह ही रोपवे तक जाने वाले रास्ते में स्नो क्रेस्ट और कॉमेट होटल भी भू-धंसाव से तिरछे होने लगे हैं। दोनों होटल मालिकों ने अपने होटलों को खाली करना शुरू कर दिया है। इतना ही नहीं नगर पालिका क्षेत्र में 22 और मकानों में दरारें आने से लोगों पर संकट बढ़ गया है। अब तक 782 मकानों में दरारें आ चुकी हैं।

कॉमेट होटल के मालिक देवेश कुंवर का कहना है कि होटल आपस में चिपकने लगे हैं। सुरक्षा को देखते हुए पहले ही होटल के सामान को सुरक्षित जगहों पर शिफ्ट करना शुरू कर दिया गया है। कहा कि इसकी जानकारी प्रशासन को भी दे दी गई है।

स्नो क्रेस्ट होटल की मालिक पूजा प्रजापति का कहना है कि वर्ष 2007 से होटल का संचालन किया जा रहा है। गत वर्ष से अभी तक होटल सुधारीकरण का काम किया जा रहा है, इस पर करीब डेढ़ करोड़ रुपये का खर्च आया। अब होटल भू-धंसाव से तिरछा होने लगा है, जिससे सामान शिफ्ट करने का काम भी शुरू कर दिया गया है।

सचिव आपदा प्रबंधन डॉ. रंजित सिन्हा ने बताया कि अभी तक 782 भवन चिन्हित किए गए हैं, जिनमें दरारें आई हैं। 22 भवन शनिवार को चिन्हित किए गए। उन्होंने बताया कि गांधीनगर में एक, सिंहधार में दो, मनोहरबाग में पांच, सुनील में सात वार्ड असुरक्षित घोषित किए गए हैं।

error: Content is protected !!