उत्तराखंड : बीमारी से उबरने के बाद पहली बार गांव पहुंचे बलूनी, बोले : अंधेरे को मिटाना है

उत्तराखंड : बीमारी से उबरने के बाद पहली बार गांव पहुंचे बलूनी, बोले : अंधेरे को मिटाना है
शेयर करें !

-अंधेरे को मिटाना है।

-अंधेरे के खिलाफ एकजुट होने का संकल्प लेना है।

-बीमारी से उबरने के बाद पहली बार उत्तराखंड पहुंचे राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी।

-सपरिवार अपने मूल गांव में इष्टदेव के मंदिर में की पूजा अर्चना, तत्पश्चात डांडा नागराजा जा कर लिया आशीर्वाद।

पौड़ी : उत्तराखंड से राज्यसभा सांसद और भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख श्री अनिल बलूनी अस्वस्थता के लगभग डेढ़ वर्ष बाद पहली बार उत्तराखंड प्रवास पर अपने मूल गांव पहुंचे, उन्होंने सपरिवार अपने इष्टदेव की पूजा अर्चना की और परिजनों से भेंट की।बलूनी का उनके गांव और क्षेत्र के निवासियों ने अभूतपूर्व स्वागत किया।

गांव में बहुत भावुक और खुशी का वातावरण था। स्थानीय पंचायतों के जनप्रतिनिधि गणों, पौड़ी विधायक मुकेश कोली सहित भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। बलूनी ने अपने संबोधन में कहा के उनके लिए यह बहुत भावुक क्षण है। लंबे समय के बाद मूल गांव आए हैं, अपने परिजनों से मिले हैं और अपने इष्ट देव का आशीर्वाद लेने का सौभाग्य मिला है।

उन्होंने कहा कि जब वे घोर अस्वस्थता में बिस्तर पर थे, तब भी उनकी उत्तराखंड के प्रति चिंता और अपना दायित्व बोध उन्हें सक्रिय रखता था। उत्तराखंड के लिए अभी भी बहुत कुछ करने की आवश्यकता है। इन अंधेरों से लड़ने की आवश्यकता है। इस अंधेरे के प्रति हम सब को एकजुट होकर स्वर्णिम उत्तराखंड बनाना होगा, जो सुखी संपन्न और आत्मनिर्भर हो।

बलूनी को इस अवसर स्थानीय भारतीय जनता पार्टी के कोट मंडल के अध्यक्ष अनिल गुसाईं द्वारा उनके खोला (नकोट) बूथ का पन्ना प्रमुख बनाया गया। कार्यकर्ताओं से संबोधन में सांसद बलूनी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ही एक ऐसी पार्टी है कि जहां प्रत्येक पदाधिकारी, सांसद, मंत्री भी पार्टी का सामान्य कार्यकर्ता है।

पार्टी अभियानों से जुड़ा भी रहता है और इसी के तहत उनके मंडल ने “मेरा बूथ – सबसे मजबूत” अभियान के तहत उन्हें पन्ना प्रमुख का दायित्व दिया है। वह अपने राष्ट्रीय दायित्व के साथ अपने बूथ पर भी सक्रिय रहेंगे। इस अवसर पर उन्होंने अपने गांव के कुछ द्वारों पर इस अभियान के स्टीकर भी चिपकाए।

इसके पश्चात सांसद बलूनी ने सपरिवार डांडा नागराजा जाकर पूजा अर्चना की और भगवान नागराज का आशीर्वाद लिया। यहां भी स्थानीय निवासियों और पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा गाजे बाजे के साथ उनका स्वागत किया और स्थानीय समस्याओं से अवगत कराया।

शेयर करें !
editor

editor

Leave a Reply

error: Content is protected !!